अगर आपके पास नहीं है Third Party Insurance, तो भुगतना पड़ सकता है चालान

Spread the love

Third Party Insurance:  आपके पास गाड़ी चाहे जैसी भी हो, हर वाहन मालिक को Third Party Insurance कराना अनिवार्य ही होता है और ऐसा न करना मोटर व्हीकल एक्ट के अंतर्गत दंडनीय अपराध माना जाता है. अपनी सुरक्षा और अपराध से बचने के लिए लोग Third Party Insurance करा लेते हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं बिना Third Party Insuranceथर्ड पार्टी इंश्योरेंस के गाड़ी चलाने पर क्या है चालान का प्रावधान। चलिए जानते हैं इससे जुड़ी सभी जानकारियां

Third Party Insurance के लाभ

वाहन के थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कवर या लायबिलिटी कवर एक ऐसी सुविधा है जो वाहन स्वामी को किसी भी कानूनी दायित्व, आकस्मिक देयता, आर्थिक हानि या संपत्ति की क्षति, दुर्घटना आदि की स्थिति में हुए आर्थिक व्यय की भरपाई करने में मदद करती है।

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस में उस थर्ड पार्टी को लाभ मिलता है जिसका आपकी गाड़ी से दुर्घटना हुआ हो, हालांकि इसमें आपकी गाड़ी के चोरी होने की स्थिती में आपको कोई कवर नहीं मिलता है. मोटे तौर पर आपको इस इंश्योरेंस को गाड़ी के पेपर्स पूरे रखने की प्रक्रिया मानकर ही चलना चाहिए.

ये है चालान का प्रावधान

अगर कोई व्यक्ति बगैर थर्ड-पार्टी कार बीमा पॉलिसी के गाड़ी चलाते हुए पकड़ा जाता है तो उसे अपने अपडेटेड मोटर व्हीकल अधिनियम 2019 के तहत पहली दफा पकड़े जाने पर ₹2000 का चालान भरना पड़ेगा और वहीं यह गलती दोहराने पर ₹4000 के भारी चालान भरना पड़ेगा.

इंश्योरेंस क्लेम करने के लिए पूरे रखें अपने कागजात

यदि आप थर्ड पार्टी इंश्योरेंस का क्लेम करना चाहते हैं तो इसके लिए कुछ आवश्यक डॉक्यूमेंट्स की भी बहुत ज्यादा जरुरत होती है इनमें वाहन मालिक द्वारा साइन किया गया क्‍लेम फॉर्म, गाड़ी के रजिस्ट्रेशन डॉक्यूमेंट्स, एफआईआर और पॉलिसी की कॉपी, आरसी की कॉपी और ड्राइविंग लाइसेंस की कॉपी होना महत्वपूर्ण है. बीमा क्लेम करने से पहले इन कागजात को जरुर अपने साथ रखें जिससे आपको क्लेम मिलने में बिलकुल भी देरी न हो सके.

यह भी पढ़ें :- सस्ते Electric Vehicles लांच करेगी ये कंपनी, साथ में मिलेगी क़र्ज़ और फाइनेंस की सुविधा

यह भी पढ़ें :- सेमीफाइनल में भारतीय महिला हॉकी टीम ऑस्ट्रेलिया के सामने, कुश्ती में भारत को मिले 6 मेडल

Leave a Comment