Rakshabandhan: डिजाइनर राखियों से सजेगी भाइयों की कलाईयां, आसमान छू रहे राखियों के दाम

Spread the love

रक्षाबंधन (Rakshabandhan) का त्योहार बस आ ही चुका है , और इसी सिलसिले में बाजार सजना शुरू हो चुके हैं पूरे बाजार में रंग बिरंगी राखियों का ताता लग चुका है , आपको बता दें कि राखियों के दाम आसमान छू रहें हैं बाजार में कई बहुत ही ज्यादा महंगी राखियों ने भी जगह बना ली है।

क्या होता है Rakshabandhan ?

हिंदू धर्म के सभी लोग श्रावण मास की पूर्णिमा को रक्षाबंधन (Rakshabandhan) का त्योहार मनाते हैं ,रक्षाबंधन पर सभी बहनें अपने भाइयों को रेशम के धागे से बंधी हुई राखियां बांधती हैं , और इस वर्ष के लिए भी रक्षाबंधन की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं सारे बाजार रंग बिरंगी राखियों से सज चुके हैं , जिन बहनों के भाई बाहर हैं वो राखियां भेज भी रहीं हैं ,पर आपको बता दें कि इस बार राखियों के दाम पर खास अंतर आया है और पिछले वर्षों की तुलना में इनके दाम 20 प्रतिशत बढ़ गए हैं।

सबसे ज्यादा है किन राखियों की डिमांड ?

पूरे भारत में सबसे ज्यादा दिल्ली और कोलकाता की बनी राखियों की डिमांड सबसे ज्यादा होती है , महंगाई के बाद भी बाज़ार में स्टोन , जरकन , मेटल , कलावा के साथ रुद्राक्ष , अन्य कई सारी फैंसी राखियों की डिमांड ज्यादा है। भगवानों में गणेश और लक्ष्मी की छवि के साथ बनी हुई राखियां लोगों को ज्यादा पसंद आ रहीं हैं ,आपको बता दें कि ये राखियां बाजार में 15-20 रुपए से लेकर 2000-3000 रुपए तक के दामों में उपलब्ध हैं।

बच्चों की हैं डिमांड कार्टून वाली राखियां

अपने छोटे भाइयों की लिए ज्यादातर बहनें कार्टून वाली राखियां लेती नजर आ रहीं हैं। आपको बता दें कि इन राखियों के दाम भी बढ़ गए हैं बाजार में लगभग छोटा भीम , निंजा हथौड़ी , डोरेमोन , शिनचैन इन सभी कार्टून कैरेक्टर्स की राखियां मौजूद हैं ,जिन्हें बच्चो द्वारा खूब पसंद किया जा रहा है।

सज गए हैं मॉल्स भी राखियों से

शहरों के कई बड़े बड़े मॉल्स भी राखियों से सज चुके हैं , जहां पे एक से बढ़कर एक महंगी और डिजाइनर राखियों मौजूद हैं। इस समय ये स्टॉल्स मॉल्स में लोगों को खूब आकर्षित कर रहें हैं,

यानि की पूरे बाजार और शहरों में रक्षाबंधन (Rakshabandhan) की रौनक दिखने लगी है।आपको बता दें कि राखी के साथ साथ तिलक लगाने के लिए स्टाइलिश थाली , ब्रेसलेट , मोतियों के अलावा चांदी की भी राखियों के दाम बढ़ गए हैं।

यह भी पढ़े:-Sukanya Samriddhi Yojana: 3.03 करोड़ लोगों ने लिया योजना का लाभ, बिटिया के लिए बनाए 63 लाख रुपए तक के फंड

यह भी पढ़े:-स्विगी में जॉब के साथ दूसरा काम:फूड डिलीवरी कंपनी ने मूनलाइटिंग पॉलिसी बनाई, कर्मचारी फुल टाइम जॉब के साथ दूसरा काम कर सकेंगे

Leave a Comment