Friday, July 1, 2022
Homeपर्सनालिटीSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: जब नेताजी ने भारत के एक स्वतंत्र...

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: जब नेताजी ने भारत के एक स्वतंत्र भाग में पहली बार अपना राष्ट्रध्वज फहराया

Subhash Chandra Bose Jayanti- आजादी की बात हो और नेताजी सुभाष चंद्र बोस ( Subhash Chandra Bose )का जिक्र ना हो, ऐसा भला हो सकता है क्या, सुभाष चंद्र बोस(Subhash Chandra Bose Jayanti) केवल एक इंसान का नाम नहीं है बल्कि ये नाम है उस वीर का, जिनकी रगों में केवल देशभक्ति का खून बहता था। बोस भारत मां के उन वीर सपूतों में से एक हैं, जिनका कर्ज आजाद भारतवासी कभी नहीं चुका सकते हैं।

अपनी मातृभूमि को गुलामी की जंजीर से आजाद कराने के लिए खुशी-खुशी अपना लहू बहाने वाले इस लाल के बारे में आइए जानते हैं विस्तार से…

Subhash Chandra Bose Jayanti- प्रारंभिक जीवन

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस( Netaji Subhas Chandra Bose ) का जन्म 23 जनवरी 1897 को ओड़िशा के कटक शहर में हुआ था।उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस और मां का नाम प्रभावती था। जानकीनाथ बोस कटक शहर के मशहूर वकील थे।

बोस(Subhash Chandra Bose Jayanti) एक संभ्रात परिवार से थे इसलिए इन्हें अच्छी शिक्षा प्राप्त हुई थी।इन्होंने कलकत्ता के स्कॉटिश चर्च कॉलेज से उन्होंने दर्शनशास्त्र में स्नातक की डिग्री हासिल की थी।साल 1919 में वे भारतीय प्रशासनिक सेवा की तैयारी के लिए इंग्लैंड पढ़ने गए।

इन्होंने भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए 1920 में आवेदन किया और इस परीक्षा में चौथा स्थान हासिल किया। लेकिन भारत मां के इस दुलारे बेटे ने जब जलियावाला बाग वाला नरसंहार देखा तो इनका मन व्यथित हो गया और इन्होंने 1921 में प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा दे दिया।

यह भी पढ़े :-Priyanka Chopra के घर आया नन्हा मेहमान,एक्ट्रेस ने पोस्ट शेयर करके फैंस को दिया खुशखबरी

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए-

इसके बाद बोस(Subhash Chandra Bose Jayanti) महात्मा गांधी जी के संपर्क में आए और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए। गांधी जी के निर्देशानुसार उन्होंने देशबंधु चितरंजन दास के साथ काम करना शुरू किया। 1928 में जब साइमन कमीशन आया तब कांग्रेस ने इसका विरोध किया।

1928 में कांग्रेस का वार्षिक अधिवेशन मोतीलाल नेहरू की अध्यक्षता में कोलकाता में हुआ। उस दौरान गांधी जी पूर्ण स्वराज की मांग से सहमत नहीं थे, वहीं सुभाष को और जवाहर लाल नेहरू को पूर्ण स्वराज की मांग से पीछे हटना मंजूर नहीं था।

अन्त में यह तय किया गया कि अंग्रेज सरकार को डोमिनियन स्टेटस देने के लिये एक साल का वक्त दिया जाये। अगर एक साल में अंग्रेज सरकार ने यह मांग पूरी नहीं की तो कांग्रेस पूर्ण स्वराज की मांग करेगी। परन्तु अंग्रेज़ सरकार ने यह मांग पूरी नहीं की इसलिये 1930 में जब कांग्रेस का वार्षिक अधिवेशन जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में लाहौर में हुआ और वहां तय किया गया कि 26 जनवरी का दिन स्वतन्त्रता दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

26 जनवरी 1931 को कोलकाता में राष्ट्र ध्वज फहराकर सुभाष(Subhash Chandra Bose Jayanti) एक विशाल मोर्चे का नेतृत्व कर रहे थे तभी पुलिस ने उन पर लाठी चलायी और उन्हें घायल कर जेल भेज दिया। जब सुभाष जेल में थे तब गांधी जी ने अंग्रेज सरकार से समझौता किया और सब कैदियों को रिहा करवा दिया।

लेकिन अंग्रेज सरकार ने भगत सिंह जैसे क्रान्तिकारियों को रिहा करने से साफ इंकार कर दिया। सुभाष चाहते थे कि इस विषय पर गांधीजी अंग्रेज सरकार के साथ किया गया समझौता तोड़ दें। लेकिन गांधीजी अपनी ओर से दिया गया वचन तोड़ने को राजी नहीं थे।

अंग्रेज सरकार अपने स्थान पर अड़ी रही और भगत सिंह व उनके साथियों को फांसी दे दी गयी। भगत सिंह को न बचा पाने पर सुभाष बोस(Subhash Chandra Bose Jayanti) गांधी जी और कांग्रेस से नाराज हो गए। उन्हें अपने क्रांतिकारी जीवन में 11 बार जेल जाना पड़ा था।

‘आजाद हिंद फौज’ का गठन

‘आजाद हिंद फौज’ का गठन जनवरी 1941 में सुभाष(Subhash Chandra Bose Jayanti) अपने घर से भागने में सफल हो गए और अफगानिस्तान के रास्ते जर्मनी पहुंच गए। उन्होंने ब्रिटिश राज को भारत से निकालने के लिए जर्मनी और जापान से मदद की गुहार लगायी।

जनवरी 1942 में उन्होंने रेडियो बर्लिन से प्रसारण करना शुरू किया जिससे भारत के लोगों में उत्साह बढ़ा। वर्ष 1943 में वो जर्मनी से सिंगापुर आए। पूर्वी एशिया पहुंचकर उन्होंने रास बिहारी बोस से ‘स्वतंत्रता आन्दोलन’ का कमान लिया और ‘आजाद हिंद फौज’ का गठन किया और नारा दिया था कि तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा। इसके बाद सुभाष को ‘नेताजी’ कहा जाने लगा।

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: Quotes
‘आजादी दी नहीं जाती, ली जाती है.

‘चर्चा से इतिहास में कोई वास्तविक परिवर्तन नहीं हुआ’

‘जिंदगी आधी दिलचस्पी खो देती है अगर कोई संघर्ष नहीं है- अगर कोई जोखिम नहीं उठाना है’

यह भी पढ़े :-Parakram diwas 2022 : आज है सुभाष चंद्र बोस की 126वीं जयंती, जानें नेताजी के जीवन की 10 खास बातें

‘एक व्यक्ति एक विचार के लिए मर सकता है, लेकिन वह विचार, उसकी मृत्यु के बाद, एक हजार जन्मों में अवतरित होगा’

अपने कॉलेज जीवन की देहलीज पर खड़े होकर मुझे अनुभव हुआ, कि जीवन का कोई अर्थ और उद्देश्य है.

मुझे जीवन में एक निश्चित लक्ष्य को पूरा करना है। मेरा जन्म उसी के लिए हुआ है। मुझे नैतिक विचारों की धारा में नहीं बहना है.

निसंदेह बचपन और युवावस्था में पवित्रता और संयम अतिआवश्यक है.

मैं जीवन की अनिश्चितता से जरा भी नहीं घबराता.

:- ज्योति मिश्रा
FactsPigeonhttps://factspigeon.com/
फैक्ट्स पिजन में आपको सबसे पहले खबरें मिलेंगी। आप हमारी वेबसाइट पर मनोरंजन, देश-दुनिया की खबरें, टेक्नोलॉजी, खेल, शिक्षा आदि खबरें पढ़ने को मिलेंगी।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular