Tuesday, June 28, 2022
Homeलाइफस्टाइलजानिए ओमिक्रॉन और डेल्टा वेरिएंट के बीच में क्या है अंतर, साथ...

जानिए ओमिक्रॉन और डेल्टा वेरिएंट के बीच में क्या है अंतर, साथ ही जानिए इनके लक्षण

पूरे विश्व में ओमिक्रॉन के वेरिएंट को लेकर दहशत फैल चुकी है। आपको बता दें कि ओमिक्रॉन वेरिएंट के मरीज भारत देश में भी मिल चुके हैं। माना तो यह भी जा रहा है कि कोरोना ओमिक्रॉन वेरिएंट डेल्टा प्लस वेरिएंट के मुकाबले लोगों को 5 गुना तेजी से संक्रमित कर रहा है। इसी कारण से सबसे ज्यादा दहशत उन देशों में फैली हुई है जिन देशों में लोगों की आबादी काफी अधिक है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि भारत आबादी के मामले में दूसरे नंबर पर मौजूद है।

यह भी पढ़ें-Omicron Kya hai, Symptoms, Cases, कैसे फैला, बचाव कैसे करें?

जब कोरोनावायरस की लहर आई थी तो उससे लोगों को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा है। लेकिन इस वेरिएंट को लेकर कोई भी खास बातें सामने नहीं आई है। लेकिन कुछ रिर्पोट के अनुसार दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टर के मुताबिक इस कोरोना वेरिएंट के लक्षण पहले वाले वेरिएंट से थोड़े अलग बताए जा रहे हैं। चलिए आपको बताते हैं कि ओमिक्रॉन वेरिएंट में कौन-कौन से लक्षण सामने आए हैं।

Omicron का सिटी वैल्यू कम हैं:-

Omicron वायरस के मरीजों में डॉक्टरों ने लो सिटी वैल्यू दिखाई दी है, यानी वायरस शरीर में तेज़ी से नहीं फैलता है। इसलिए जितने भी विदेशी यात्री इस वायरस से पीड़ित पाए गए है उनमें लो सिटी वैल्यू दिखाई दी है। कर्नाटक सरकार ने भी omicron वेरिएंट के मरीज पर एक बयान देते हुए कहा है कि हो सकता है इसके मरीज और भी हो जिनके कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं हो। पर राहत की बात ये है कि अभी तक इस वरिएंट में कोई खतरनाक लक्षण नहीं दिखे है।

यह भी पढ़ें-रोज पियें मेथी दाने का पानी और बनाए अपने शरीर को सेहतमंद,जानिये कैसे

डेल्टा वेरिएंट से अलग है लक्षण :-

हाल ही में दक्षिण अफ्रीका में जब इस वेरिएंट पर सोध हुआ, तो डॉक्टर ने पाया कि इसमें डेल्टा वेरिएंट की तरह गंध और स्वाद नहीं जाता है। इस वायरस के मरीज में शरीर का ऑक्सीजन लेवल भी कम नहीं होता। बल्कि इस वेरिएंट के मरीज को बुखार, सर दर्द, बदन दर्द, गले में खराश आदि लक्षण हो सकता है। इस वायरस से अभी तक जान को खतरा हो ऐसा साबित नहीं हुआ।

Omicron से बचने की सलाह :-

Omicron वेरिएंट के वायरस से शरीर को बचाने के लिए आप अपने खाने का ख्याल जरूर रखे। भोजन में विटामिन सी, विटामिन डी और जिंक से भरपूर डाइट को शामिल करें। भोजन ऐसा खाए जिसमें एंटीऑक्सीडेंट भी मौजूद हो। डॉक्टरों ने खान पान के साथ कोरोना गाइडलाइंस का भी सख्ती से पालन करने की सलाह दी है। यही सब चीज़े आपकी जान बचा सकती हैं।

 

Kanchan Goyalhttps://factspigeon.com
कंचन गोयल अभी माखनलाल पत्रिकारिता विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी कर रही हैं। इसके अलावा इन्हे निष्पक्ष होकर पत्रिकारिता करना पसंद है। सच्चाई और तथ्यों के आधार पर स्टोरी करने को महत्व देती हैं। इनका मानना है कि पढ़ाई, लिखाई करने से रचनात्मक सोच में उत्पत्ति है।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular