Tuesday, June 28, 2022
Homeलाइफस्टाइलकिताबें पढ़ने से मस्तिष्क रहता है स्वस्थ्य, डिप्रेशन से हो जाते हैं...

किताबें पढ़ने से मस्तिष्क रहता है स्वस्थ्य, डिप्रेशन से हो जाते हैं दूर

आजकल का जीवन काफी तनाव से भरा हुआ है। इसकी वजह से बहुत लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ता है। भारत में ढेर सारे लोग टेंशन से पीढ़ित हैं। इसके कारण लोगों को काफी परेशानी होती है। टेंशन को समय पर नहीं रोका गया तो ये डिप्रेशन में बदल सकती है। जो हम सब के लिए काफी हानिकारक है।

इससे बचने के लिए हमें साकारात्मक रवैया अपनाना होगा। इससे लोगों की जीवन शैली में काफी असर पड़ता है। हमें समझना होगा कि ऐसा क्यों होता है। इसका सबसे बड़ा कारण है कि आप नाकारात्मकता को बढ़ावा दे रहे हैं। यानि कि हमें सोच में शक्ति रखनी चाहिए। इसी को जीवन में अपनाने की आवश्यकता है।

जीवन में डिप्रेशन के दौरान मनौवैज्ञानिक की सलाह ले सकते हैं। उनकी मदद से डिप्रेशन दूर करने में मदद मिलती है लेकिन उपचार के वक्त कई तरह की ऐलोपैथिक दवाई मिलती हैं। लेकिन इन दवाओं का काफी कुछ असर पड़ता है। इससे आपका स्वास्थ्य खराब हो सकता है। वहीं दूसरी ओर हम व्यायाम, योग और दिनचर्या में सुधार कर डिप्रेशन से दूर हो सकते हैं। ये भी कहा जाता है कि इसके दौरान हमें लोगों से बात करते रहना चाहिए। इसके अलावा सामाजिक गतिविधियों में खुद को व्यस्थ रखना चाहिए जिससे आप उदास ना हो और आपको इससे निकलने में मदद मिल सके

किताबें पढ़ने से तनाव रहता है दूर

Book Read

ऐसे समय में हमें आदतों में सुधार लाना चाहिए। आपको किताबें पढ़ने का शौक है तो हर तरीके की किताबें पढ़ सकते हैं जिसके चलते अपका मन और दिमाग स्वस्थ रहेगा। माना जाता है कि किताबों से तनाव दूर होता है और हम खुद की टेंशन कम करने के अलावा स्वंय को खुश रख सकते हैं। आपको मनोवैज्ञानिक से संबंधित किताब पढ़नी है तो जोसफ मरफी की ‘द पावर आफ योर सब्काॅंशियस मांड'(The power of your Subconscious mind) एक बेहतर विकल्प है जिससे आप दिमाग को नियंत्रण करने का तरीका सीख सकते हैं।

इसके साथ हमे हिन्दी में लघु कथाएं पढ़नी चाहिए जो हमारे लिए काफी बेहतर है और हम कम समय में अच्छी खासी कहानियां पढ़ सकते हैं।

Kanchan Goyalhttps://factspigeon.com
कंचन गोयल अभी माखनलाल पत्रिकारिता विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी कर रही हैं। इसके अलावा इन्हे निष्पक्ष होकर पत्रिकारिता करना पसंद है। सच्चाई और तथ्यों के आधार पर स्टोरी करने को महत्व देती हैं। इनका मानना है कि पढ़ाई, लिखाई करने से रचनात्मक सोच में उत्पत्ति है।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular