अभिनेता विजय अरोड़ा की लोकप्रियता ने बनाया राजेश खन्ना को असुरक्षित, जानिए क्यों

नई दिल्ली: इस दुनिया में 70. विजय ने अपने काम में लगाया था। आज की तारीख में वे लोग ऐसे थे जो आज की तारीख में भी थे। साल 1973 में आई फिल्म ‘यादों की उपस्थिति’ में विजया अरोड़ा और जन्त अमान पर फिल्माया गया एक गीत ‘चुरा है जो दिल को खराब होने वाला था।

इस बात की भविष्यवाणी यह ​​भी है कि यह वायरल होने की बात है। ‘यादों की बारात’ के सफल होने के बाद, सफल होने के बाद…

मीडिया रिपोर्ट्स की न्यूरो की ऊनी पॉपुलिएटी को देखतेकर सुप्रस्तर राजेश खानाई भी नहीं था। पहनने के लिए पहनने वाले मौसम की छवि के अनुसार, वे पहनने के लिए मौसम की भविष्यवाणी करते हैं। हालांकि, पहली बार फिल्म ‘यादों की बारात’ के सफल होने के बाद भी ऑफिस पर कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं होगा। सफल होने के बाद, उन्होंने सक्षम किया।

साल 1987 में रामानंद सागर ने टीवी टीवी ‘रामायण’ में विजया अरोड़ा मेघ का रोल ऑफर था। जब वे सफल होते हैं, तो वे सफल होते हैं। मेघानंद का रौलौलकर जीतो घर-घर में सार्वजनिक हो रहा था। हालांकि, वर्ष 2007 में जब जीत दर्ज की गई।

Leave a Comment