Saturday, July 2, 2022
Homeधर्म-ज्योतिषइस दिशा में बाथरूम, टॉयलेट या स्टोर रूम जीवन पर पड़ सकता...

इस दिशा में बाथरूम, टॉयलेट या स्टोर रूम जीवन पर पड़ सकता है भारी, आपसी कलह से हो जाएंगे तबाह

नई दिल्ली: वास्तु शास्त्र (vastu shastra) के अंदर हर दिशा का अलग-अलग महत्व बताया गया है। वास्तु की माने तो उत्तर दिशा से जुड़ा वास्तु दोष बहुत ही खतरनाक सिद्ध होता है। इस दिशा में वास्तु दोष होने के कारण घर में कभी भी सकारात्मक ऊर्जा का संचार नहीं होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह दिशा से वायु देवता का कनेक्शन बताया गया है। तो चलिए जानते हैं उत्तर पश्चिम दिशा से जुड़े हुए कुछ बेहद ही अहम वास्तु टिप्स-

उत्तर पश्चिम दिशा से जुड़े हुए वास्तु टिप्स (vastu shastra)

वास्तु शास्त्र (vastu shastra) अनुसार घर या फिर कारोबार वाली जगह पर उत्तर पश्चिम दिशा भाग कुछ कटा हुआ हो या फिर दूसरी दिशाओं के मुकाबले कम चौड़ा होता है तो उस हिस्से की उत्तरी दीवाल में लगभग 4 फुट चौड़ा आईना लगवा देना चाहिए। ऐसा करने पर लाभ मिल जाता है।

यह भी पढ़े :-Astro tips: चीनी से होंगी परेशानियां दूर, अपना यह अचूक उपाय

वास्तु शास्त्र (vastu shastra) अनुसार उत्तर पश्चिम का भाग शौचालय, स्नानघर और स्टोर रूम के लिए बहुत ही उत्तम बताया गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि शाम के वक्त में सूर्य की गर्मी से घर के अन्य हिस्से बचे हुए बने रहते हैं। साथ ही पूछना शौचालय और स्नानघर को सूखा रखने में सहायता करने लगता है।

वास्तु अनुसार घर के उत्तर पूर्व दिशा में बेडरूम होना पति-पत्नी के लिए बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसा इसीलिए क्योंकि उत्तर पूर्व दिशा में देवी-देवताओं का वास बताया गया है। इसी वजह से बेडरूम उत्तर दिशा में बनवाने का ज्योतिष अनुसार सुझाव दिया गया है।

यह भी पढ़े :-हर सीमा लांघने पर ही इन लोगों को मिलती है बड़ी सफलता, जरूर जान लें ये काम की बात

वास्तु (vastu shastra) अनुसार उत्तर पश्चिम दिशा का संबंध हवा से बताया गया है। इसीलिए इस दिशा में रंग रोगन करने के लिए हल्का स्लेटी, क्रीम या फिर सफेद रंग का चुनाव करना चाहिए। इसी के साथ साथ इस दिशा में भी नौकर का कमरा होना बहुत ही आवश्यक है। कुमारी कन्याओं के लिए उत्तर दिशा का कमरा सबसे उत्तम बताया गया है। ऐसा करने पर विवाह के योग मजबूत होने लगते हैं।

Kanchan Goyalhttps://factspigeon.com
कंचन गोयल अभी माखनलाल पत्रिकारिता विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी कर रही हैं। इसके अलावा इन्हे निष्पक्ष होकर पत्रिकारिता करना पसंद है। सच्चाई और तथ्यों के आधार पर स्टोरी करने को महत्व देती हैं। इनका मानना है कि पढ़ाई, लिखाई करने से रचनात्मक सोच में उत्पत्ति है।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular