Gemology: पन्ना धारण करते ही इन राशि के जातकों की चमक उठेगी किस्मत, जानिए किस तरह से करें धारण

Gemology: रत्न शास्त्र में 84 रत्न और 9 रत्नों का वर्णन मिलता है। इन 9 रत्नों में 5 प्रमुख रत्न होते हैं। जिसमें पन्ना, मूंगा, पुखराज, मोती और माणिक्य हैं। यहां हम आज बात करने जा रहे हैं पन्ना रत्न के बारे में। इसे संस्कृत में मर्कत, हिंदी में पन्ना, मराठी में पांचू, बांग्ला में पाना और अंग्रेजी में एमराल्ड कहते हैं। साथ ही इस रत्न का संबंध ज्योतिष में बुध ग्रह से माना जाता है।

आपको बता दें कि इस रत्न को धारण करने से व्यापार में बढ़ोतरी होने की मान्यता है। साथ ही यह रत्न छात्रों के लिए ये काफी फलदायी माना जाता है। कहते हैं इसके प्रभाव से बुद्धि तेज होती है और स्मरण शक्ति बढ़ती है। जानिए पन्ना रत्न कब, किसे और कैसे धारण करना चाहिए।

पन्ना रत्न पहनने के क्या है लाभ

ज्योतिष के अनुसार इस रत्न को पहनने से कारोबार में लाभ प्राप्त होने लगता है। साथ ही जिन बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता है या जो शीघ्र भूल जाते हैं उनके लिए भी ये रत्न शुभ माना गया है। जिन लोगों को नेत्र रोग हैं वो लोग भी पन्ना पहन सकते हैं। साथ ही जो लोग तोतले या उनका उच्चारण सही नहीं होता है, ऐसे लोग भी पन्ना धारण कर सकते हैं। जो लोग मीडिया और फिल्म लाइन जगत से जुड़े हुए हैं वो लोग भी पन्ना धारण कर सकते हैं। वहीं जिन लोगों को व्यापार में सफलता नहीं मिल पा रही हो, वो लोग भी अपनी जन्मकुंडली का विश्लेषण कराकर पन्ना धारण कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें-Lucky Plants: इन 5 पौधों को घर में लगाती ही आने लगेगी सकारात्मकता, घर में आने लग जाएगी धन की बाढ़

इन राशि के जातकों को पहनना चाहिए पन्ना रत्न

वैदिक ज्योतिष के अनुसार मिथुन और कन्या वालों को ये रत्न काफी शुभ फलदायी साबित होता है। क्योंकि इन राशियों के स्वामी बुध ग्रह ही है। लेकिन किसी ज्योतिष विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद ही इसे धारण करें। इसके अलावा पन्ना वृषभ, तुला, मकर और कुंभ राशि के लोग भी पहन सकते हैं। लेकिन मेष, कर्क और वृश्चिक वालों को पन्ना बिल्कुल भी धारण नहीं करना चाहिए। अगर किसी जातक की कुंडली में जन्म लग्न में बुध छठे, आठवें, 12वें भाव में सकारात्मक स्थित हैं तो भी ये रत्न धारण किया जा सकता है। कुंडली में अगर बुध अगर नीच का स्थित है तो यह रत्न धारण नहीं करना चाहिए।

इस तरह से धारण कर सकते हैं पन्ना रत्न

पन्ने को चांदी में या सोने की अंगूठी में जड़वाकर हाथ की सबसे छोटी उंगली में बुधवार के दिन धारण कर सकते हैं। इसे सूर्योदय से लगभग 10 बजे तक पहना जा सकता है । पन्ना सोने में धारण करना सबसे शुभ माना जाता है। पन्ना कम से कम सवा 7 कैरेट का होना चाहिए। पन्ना धारण करने से पहले उसे एक रात के लिए गंगाजल, शहद, मिश्री व दूध के घोल में डुबोकर रख देना चाहिए। उसके बाद बुधवार के दिन सुबह इसे निकाल कर धूप दीप दिखाएं और ऊं बुं बुधाय नमः मंत्र का 108 बार जाप कर धारण कर लेना चाहिए।

Souce: Jansatta

Leave a Comment